ये तो नहीं कि ग़म नहीं

Lyricist:Firaq Gorakhpuri
Singer:Chitra Singh

ये तो नहीं कि ग़म नहीं
हाँ मेरी आँख नम नहीं।

तुम भी तो तुम नहीं हो आज
हम भी तो आज हम नहीं।

अब ना खुशी की है खुशी
ग़म का भी तो अब ग़म नहीं।

मौत अगर चे मौत है
मौत से ज़ीस्त कम नहीं।

चे = Although
ज़ीस्त = Life

2 Replies to “ये तो नहीं कि ग़म नहीं”

  1. Jaya
    aap ne yaad dila diya ab bhi koi jakhm hara hai.
    Ab kya bhrega jab abhi taq nahin bhara hai.

    Firaq sab does not need any more praises.nor does you as it seems from your selection that you know what you are saying.

    best wishes.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *