राज़ ये मुझपे आशकारा है

Lyricist: Sant Darshan Singh
Singer: Ghulam Ali

राज़ ये मुझपे आशकारा है
इश्क शबनम नहीं शरारा है।

इक निग़ाह-ए-करम फिर उसके बाद
उम्र भर का सितम गवारा है।

रक़्स में हैं जो सागर-ओ-मीना
किसकी नज़रों का ये इशारा है।

लौट आए हैं यार के दर से
वक़्त ने जब हमें पुकारा है।

अपने दर्शन पे इक निग़ाह-ए-करम
वो ग़म-ए-ज़िन्दग़ी का मारा है।

आशकारा = obvious
शरारा = spark
रक़्स = Dance

4 Replies to “राज़ ये मुझपे आशकारा है”

  1. Roshan jamaal-e yaar se hai, anjuman tamaam,
    dehka hua hai aatish-e gul se, chaman tamaam.

    hairat guroor-e husn se, shokhi se iztaraab,
    Dil ne bhi tere seekh liye hain chalan tamaam.

    Allar-e jism-e yaar ki, khubi ke khud-ba-khud,
    Rangeeniyon mein doob gaya pairhan tamaam.

    Dekho to husn-e yaar ki, jaadoo nigaahiyan,
    Behosh ek nazaar mein hui, anjuman tamaam.
    Lyrics: Hasan Fuhani
    Sung: Mehdi Hassan

  2. waah Kya Ghazal Hai Shayar Sab

    Bahot Hi mushkil Word Hai Urdu ke
    agr Down pe Uske Meanings Likh Dete toh Hame Aasani Se Read karte Banta

    But Shukriya iss Khubsurat gh-azal ke Liye

    Thank You

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *