ये किसने कह दिया आख़िर कि छिप-छिपा के पिओ

Lyricist: Sant Darshan Singht
Singer: Ghulam Ali

ये किसने कह दिया आख़िर कि छिप-छिपा के पिओ
ये मय है मय, इसे औरों को भी पिला के पिओ।

ग़म-ए-जहाँ को ग़म-ए-ज़ीस्त को भुला के पिओ
हसीन गीत मोहब्बत के गुनगुना के पिओ।

ग़म-ए-हयात का दरमाँ हैं इश्क के आँसू
अँधेरी रात है यारों दिए जला के पियो।

नसीब होगी बारह कैफ़ मर्ज़ी-ए-साकी
मिले जो ज़हर भी यारों तो मुसकुरा के पिओ।

मेरे ख़ुलूस पे शैख़-ए-हरम भी कह उठा
जो पी रहे हो तो ‘दर्शन’ हरम में आ के पिओ।


मय =Wine
ज़ीस्त =Life
दरमाँ = Medicine, Cure
कैफ़ = Intoxication, Happiness
बारह = Turn, Time
ख़ुलूस = Openness
शैख़ = Elder, Preacher

2 Replies to “ये किसने कह दिया आख़िर कि छिप-छिपा के पिओ”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *