ज़ुल्फ़ बिखरा के निकले वो घर से

Lyricist: Bekal Utsahi
Singer: Hussain Brothers

ज़ुल्फ़ बिखरा के निकले वो घर से
देखो बादल कहाँ आज बरसे।

फिर हुईं धड़कनें तेज़ दिल की
फिर वो गुज़रे हैं शायद इधर से।

मैं हर एक हाल में आपका हूँ
आप देखें मुझे जिस नज़र से।

ज़िन्दग़ी वो सम्भल ना सकेगी
गिर गई जो तुम्हारी नज़र से।

बिजलियों की तवाजों में ‘बेकल’
आशियाना बनाओ शहर से।

तवाजों = Hospitality

19 Replies to “ज़ुल्फ़ बिखरा के निकले वो घर से”

  1. Badal ka matlab woh jisko aap imagin kar rahe hon
    aur woh kab kidhar baras pade is ka aap ko pata nahi.

  2. Ye ghazal Raishu ke nam hai

    “Aj bhi mere khayalaon me hai tu
    Aj bhi tujhe pane ki hai justju
    kaise huya juda ham sanam kash ye dahtan tujhe suna sakun me ”

    Shahil

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *