बाद मुद्दत उन्हे देखकर यूँ लगा

Lyricist:
Singer: Jagjit Singh, Chitra Singh

बाद मुद्दत उन्हे देखकर यूँ लगा
जैसे बेताब दिल को करार आ गया।
आरजुओं के गुल मुसकुराने लगे
जैसे गुलशन में जान-ए-बहार आ गया।

तश्ना नज़रें मिलीं शोख़ नज़रों से जब
मय बरसने लगी जाम भरने लगा।
साक़िया आज तेरी ज़रूरत नहीं
बिन पिए, बिन पिलाए ख़ुमार आ गया।

रात सोने लगी सुबह होने लगी
शमाँ बुझने लगी दिल मचलने लगे
वक़्त की रोशनी में नहाई हुई
ज़िन्दगी पे अजब सा निखार आ गया।


तश्ना = Thirsty

2 Replies to “बाद मुद्दत उन्हे देखकर यूँ लगा”

  1. Hi jaya,
    I don kno hw to publish in Hindi fonts.. hope you will understand the first point.
    1. In first para: “Tashna” should be “Tishna”

    2. Last para is missing here:
    Har taraf mastiyan har taraf dilkashi
    Muskurate dilon mein Khushi hi Khushi
    Kitana chaahaa magar phir bhi uth na saka
    Terii mahafil mein jo ek baar aa gaya..

    3. If you want you may add this also: Lyricist of this ghazal is “Roshan Nanda”.

    And again Hats off to your efforts….
    Byee
    Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *