अपनी आँखों के समंदर में उतर जाने दे

Lyricist: Nazeer Baqri
Singer: Jagjit Singh

अपनी आँखों के समंदर में उतर जाने दे।
तेरा मुजरिम हूँ मुझे डूब के मर जाने दे।

ऐ नए दोस्त मैं समझूँगा तुझे भी अपना
पहले माज़ी का कोई ज़ख़्म तो भर जाने दे।

आग दुनिया की लगाई हुई बुझ जाएगी
कोई आँसू मेरे दामन पर बिखर जाने दे।

ज़ख़्म कितने तेरी चाहत से मिले हैं मुझको
सोचता हूँ कि कहूँ तुझसे मगर जाने दे।


माज़ी = Past

One Reply to “अपनी आँखों के समंदर में उतर जाने दे”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *