कठिन है राह-गुज़र थोड़ी देर साथ चलो

Lyricist: Ahmed Faraz
Singer: Ghulam Ali

कठिन है राह-गुज़र थोड़ी देर साथ चलो।
बहुत कड़ा है सफ़र थोड़ी देर साथ चलो।

तमाम उम्र कहाँ कोई साथ देता है
ये जानता हूँ मगर थोड़ी दूर साथ चलो।

नशे में चूर हूँ मैं भी तुम्हें भी होश नहीं
बड़ा मज़ा हो अगर थोड़ी दूर साथ चलो।

ये एक शब की मुलाक़ात भी गनीमत है
किसे है कल की ख़बर थोड़ी दूर साथ चलो।

तवाफ़-ए-मंज़िल-ए-जाना हमें भी करना है
‘फ़राज़’ तुम भी अगर थोड़ी दूर साथ चलो।

शब = Night
तवाफ़ = Going Round

6 Replies to “कठिन है राह-गुज़र थोड़ी देर साथ चलो”

  1. lafz tawaf ko hindi men t, w, a ki matra aur ph se likha ja sakta hai. is k mayne kisi pak cheez k charon taraf ghoomna, kisi jagah ka baar baar chakkar lagana hai. patange ko roshni ka tawaf karte sab ne dekha hoga. is tarah kisi cheez k ird gird ghoomna bhi tawaf hua. waqt kam hai lihaza filhaal itna hi. agar is se baat banti ho to theek warna ise hindi men bhi bheja ja sakta hai. agar hindi men is ki zaroorat ho to muttela karen.
    jawed

  2. Jaya, you have geocities link there – the one I gave above is technofundo.com site which is hosted on ads-free servers, hence cleaner and clutter free! Change the link when you get time.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *