बका-ए-दिल के लिए ज्यों लहू ज़रूरी है

Lyricist: Farhat Shahzad
Singer: Ghulam Ali

दिल की बात ना मुँह तक लाकर अब तक हम दुख सहते हैं।
हमने सुना था इस बस्ती में दिल वाले भी रहते हैं।
एक हमें आवारा कहना कोई बड़ा इलज़ाम नहीं
दुनिया वाले दिल वालों को और बहुत कुछ कहते हैं।

बका-ए-दिल के लिए ज्यों लहू ज़रूरी है
इसी तरह मेरे जीवन में तू ज़रूरी है।

ये अक़्ल वाले नहीं अहल-ए-दिल समझते हैं
कि क्यों शराब से पहले वुज़ू ज़रूरी है।

ख़ुदा को मुँह भी दिखाना है एक दिन यारों
वफ़ा मिले ना मिले जुस्तजु ज़रूरी है।

कली उम्मीद की खिलती नहीं हर एक दिल में
हर एक दिल में मगर आरज़ू ज़रूरी है।

है एहतराम भी लाजिम कि ज़िक्र है उसका
जिगर का चाक भी होना रफ़ू ज़रूरी है।

बका = permanence, eternity, immortality
अहल-ए-दिल = Resident Of The Heart
वुज़ू = Ablution
जुस्तजु = Desire, Search
एहतराम = Respect
चाक = Slit, Torn
रफ़ू = Mending, Repair

2 Replies to “बका-ए-दिल के लिए ज्यों लहू ज़रूरी है”

  1. Correction plz …..
    dil ki baat “ZubaaN” tak laa kar ab tak hum……
    But I dont think this is written by Farhat Shehzaad. I have his book but could not find this ghazal in it. “Baqaa-e- dil ke liye” is written by him though.
    The last verse of this ghazal is :
    Hazaar un ke aevaz nafaratein mili “shehzaad”
    MuhabatoN ki magar aabroo zaroori hai

  2. Thanks for all the corrections suggested. Several are pending in this blog (pointed out by many readers). I will do them all together sometime.

    However, for the specific kinds of corrections suggested here, you need to know how this site is being maintained. I am writing what I am listening. So, if Ghulam Ali decided to make it “munh” instead of “Zubaan”, it will stay as “munh” 🙂

    For the second one (that it is not written by Shehzaad), please see Q. 5 in FAQ page.

    For the third one, again refer to the explanation of the first one. I am writing what I am hearing.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *