अपनी ग़ज़लों में तेरा हुस्न सुनाऊँ आ जा

Lyricist:
Singer: Ghulam Ali

अपनी ग़ज़लों में तेरा हुस्न सुनाऊँ आ जा
आ ग़म-ए-यार तुझे दिल में बसाऊँ आ जा।

बिन किए बात तुझे बात सुनाकर दिल की
तेरी आँखों में हया रंग सजाऊँ आ जा।

अनछुए होंठ तेरे एक कली से छू कर
उसको मफ़हूम नज़ाक़त से मिलाऊँ आ जा।

मैंने माना कि तू साक़ी है मैं मैकश तेरा
आज तू पी मैं तुझे जाम पिलाऊँ आ जा।

हीर वारिस की सुनाऊँ मैं तुझे शाम ढले
तुझमें सोए हुए जज़्बों को जगाऊँ आ जा।

ऐं मेरे सीने में हर आन धड़कती ख़ुशबू
आ मेरे दिल में तुझे तुझसे मिलाऊँ आ जा।

मफ़हूम = To be taken to mean, Understood
हीर वारिस की: This is an explanation and not a meaning. The famous Punjabi poetry “Heer Ranjha” was written by Warris Shah. This is what is being referred to here.
आन = Moment

6 Replies to “अपनी ग़ज़लों में तेरा हुस्न सुनाऊँ आ जा”

  1. “aan” mean moment in english and “ghadi” in hindi.
    Here is a sher by Ibrahim Zauk…

    dariyaa-e-ashk chashm se jis aan bah gayaa
    sun liijiyo ke arsh kaa aivaan bah gayaa…

  2. There are a couple of similraly beautiful ghazals, both sung by Mehdi Hassan…

    One is…

    Log to Duniya me jeete-jee pyar karte hain
    Mai to mar-kar bhi merii jaan tujhe chaahunga

    Tujh par ho jaaunga qurbaan tujhe chaahunga
    Mai to mar-kar bhi merii jaan tujhe chaahunga…

    And the other one is…

    Duniya kisii ke paar me janaat se kam nahii
    Ik dilrooba hai saath jo phoolon se kam nahii…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *