बहारों के चमन याद आ गया है

Lyricist: Rifat Sultan
Singer: Ghulam Ali

अब मैं समझा तेरे रुखसार पे तिल का मतलब
दौलत-ए-हुस्न पे दरबान बिठा रखा है।

बहारों के चमन याद आ गया है
मुझे वो गुलबदन याद आ गया है।

लचकती शाख ने जब सर उठाया
किसी का बाँकपन याद आ गया है।

मेरी ख़ामोशियों पर हँसने वालों
मुझे वो कमसुख़न याद ऐ गया है।

तेरी सूरत को जब देखा है मैंने
उरूज-ए-फ़िक्र-ओ-फ़न याद आ गया है।

मिले वो बन कर अजनबी तो ‘रिफ़त’
जमाने का चलन याद आ गया है।

Do not know what उरूज-ए-फ़िक्र-ओ-फ़न mean. Any help?

बाँकपन = Slyness
कमसुख़न = One who speaks less
उरूज = Ascent

7 Replies to “बहारों के चमन याद आ गया है”

  1. I’m not sure the first sher is by Rifat Sultan, becuz I’ve heard it in another ghazal of ghu;am ali. I guess ghulam ali likes inserting his favourite shers in different ghazals.

  2. uruuj-r-f…mere soch se iska matlab hai uruuj-ubhaar,fiqr o fan -fikar,chinta matlb lover ko dekh ke shaayar ke jo kaavya ruupi fun ,kalaa ka nashaa chadha hai uske baare mein hai.khair aur angle se dekhein to aur v bahut kuchh hai.jo shabdon mein bayaan nahun ho saktaa.i love it much.thanx wordpress n u.

  3. Urooj= zenith, fiqr = thought, fan = talent. the poet is saying that your face is so perfect and beautiful that it epitomizes the zenith (highest point) of thought and talent. basically it’s praise of her face’s beauty.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *