तुझे क्या ख़बर मेरे हमसफ़र, मेरा मरहला कोई और है

Lyricist: Sant Darshan Singh
Singer: Ghulam Ali

तुझे क्या ख़बर मेरे हमसफ़र, मेरा मरहला कोई और है।
मुझे मंज़िलों से गुरेज़ है मेरा रास्ता कोई और है।

मेरी चाहतों को न पूछिए, जो मिला तलब के सिवा मिला
मेरी दास्ताँ ही अजीब है, मेरा मसला कोई और है।

वो रहीम है, वो करीम है, वो नहीं कि ज़ुल्म सदा करे
है यक़ीं ज़माने को देखकर कि यहाँ ख़ुदा कोई और है।

मैं चला कहाँ से ख़बर नहीं, इस सफ़र में है मेरी ज़िन्दगी
मेरी इब्तदा कहीं और है मेरी इंतहा कोई और है।

मेरा नाम ‘दर्शन’ है खतन, मेरे दिल में है कोई लौ पिघन
मैं हूँ गुम किसी की तलाश में मुझे ढूँढता और है।

Could not hear clearly the words in bold (of the last stanza). And hence, in all probability, they are written wrong. Corrections?


मरहला = Journey
गुरेज़ = Escape, Evasion
मसला = Problem
इब्तदा = Beginning
इंतहा = Ending

रक्स करती है फ़ज़ा वज्द में जाम आया है

Lyricist:
Singer: Ghulam Ali

रक्स करती है फ़ज़ा वज्द में जाम आया है।
फिर कोई ले के बहारों का पयाम आया है।

मैंने सीखा है ज़माने से मोहब्बत करना
तेरा पैग़ाम-ए-मोहब्बत मेरे काम आया है।

तेरी मंज़िल है बुलंद इतनी कि हर शाम-ओ-सहर
चाँद-सूरज से तेरे दर को सलाम आया है।

ख़ुद-ब-ख़ुद झुक गई पेशानी-ए-अरबाब-ए-ख़ुदी
इश्क की राह में ऐसा भी मकाम आया है।

जब कभी गर्दिश-ए-दौराँ ने सताया है बहुत
तेरे रिन्दों की ज़बाँ पर तेरा नाम आया है।


रक्स = Dance
वज्द= Rapture
पेशानी = Forehead
अरबाब = Friends
ख़ुदी = Self-Respect, Ego
रिन्द = Libertine, Blackguard

ये बातें झूठी बातें हैं

Lyricist: Ibn-E-Insha
Singer: Ghulam Ali

ये बातें झूठी बातें हैं, ये लोगों ने फैलाई हैं।
तुम इन्शा जी का नाम न लो, क्या इन्शा जी सौदाई हैं?

हैं लाखों रोग ज़माने में क्यों इश्क है रुसवा बेचारा
हैं और भी वज़हें वहशत की इन्शा को रखतीं दुखियारा।
हाँ, बेकल-बेकल रहता है, हो पीत में जिसमें जी हारा
पर शाम से लेकर सुबहो तलक यूँ कौन फिरे है आवारा।

गर इश्क किया है तब क्या है, क्यों शाद नहीं आबाद नहीं
जो जान लिए बिन टल ना सके ये ऐसी भी उफ़ताद नहीं।
ये बात तो तुम भी मानोगे वो कैस नहीं फ़रहाद नहीं
क्या हिज्र का दारू मुश्किल है, क्या वस्ल के नुस्खे याद नहीं।

जो हमसे कहो हम करते हैं, क्या इन्शा को समझाना है।
उस लड़की से भी कह लेंगे गो अब कुछ और ज़माना है।
या छोड़ें या तक़मील करें ये इश्क है या अफ़साना है।
ये कैसा गोरखधंधा है, ये कैसा तानाबाना है।


रुसवा = Disgraced
वहशत = Solitude, Grief, Fear
पीत = Love, Affection
शाद = Cheerful, Happy
उफ़ताद = Calamity
हिज्र = Separation
दारू = Medicine, Remedy
वस्ल = Communion
गो = Although, Though
तक़मील = Getting over with, Taking to a conclusion

बिन बारिश बरसात न होगी

Lyricist: Khalid Mehmood Aarif
Singer: Ghulam Ali

बिन बारिश बरसात न होगी
रात गई तो रात न होगी।

राज़-ए-मोहब्बत तुम मत पूछो
मुझसे तो ये बात न होगी।

किससे दिल बहलाओगे तुम
जिस दम मेरी ज़ात न होगी।

अश्क भी अब ना क़ैद हुए हैं
शायद अब बरसात न होगी।

यूँ देखेंगे ‘आरिफ़’ उसको
बीच में अपनी ज़ात न होगी।

रफ़्ता-रफ़्ता वो मेरी हस्ती का सामाँ हो गए

Lyricist: Tasleem Fazli
Singer: Mehdi Hasan

रफ़्ता-रफ़्ता वो मेरी हस्ती का सामाँ हो गए
पहले जाँ, फिर जान-ए-जाँ, फिर जान-ए-जाना हो गए।

दिन-ब-दिन बढ़ती गईं, उस हुस्न की रानाइयाँ
पहले गुल, फिर गुलबदन, फिर गुलबदाना हो गए।

आप तो नज़दीक से, नज़दीकतर आते गए
पहले दिल, फिर दिलरुबा, फिर दिल के मेहमाँ हो गए।

प्यार जब हद से बढ़ा सारे तकल्लुफ़ मिट गए
आप से फिर तुम हुए, फिर तू का उनवाँ हो गए।

रानाई = Beauty
उनवाँ = Title