मेरी नज़र से न हो दूर एक पल के लिए

Lyricist: Qateel Shifai
Singer: Ghulam Ali

इसका रोना नहीं क्यों तुमने किया दिल बरबाद
इसका ग़म है कि बहुत देर में बरबाद किया।

मेरी नज़र से न हो दूर एक पल के लिए
तेरा वज़ूद है लाज़िम मेरी ग़ज़ल के लिए।

कहाँ से ढूँढ़ के लाऊँ चराग से वो बदन
तरस गई हैं निग़ाहें कँवल-कँवल के लिए।

कि कैसा तजर्बा मुझको हुआ है आज की रात
बचा के धड़कनें रख ली हैं मैंने कल के लिए।


क्या बेमुरौव्वत ख़ल्क़ है सब जमा है बिस्मिल के पास
तनहा मेरा क़ातिल रहा कोई नहीं क़ातिल के पास।

‘क़तील’ ज़ख़्म सहूँ और मुसकुराता रहूँ
बने हैं दायरे क्या-क्या मेरे अमल के लिए।


लाज़िम = Essential, Important, Necessary
ख़ल्क़ = World

6 Replies to “मेरी नज़र से न हो दूर एक पल के लिए”

  1. agar tu gulab hoti toh tor leta mai
    agar tu sabal hoti toh mai jabab hota
    kon kahta h mai nasha nai krta hu
    agar tu sarab hoti toh pe leta mai…..

  2. Main vaapia to aa gaya par mujhe yakeen tha ki wo hamari aakhiri mulakat nahi thi din guzre. . Maheene guzre.. Hum abhi bhi baat kiya karte the ab mujhe koi shak nahi tha ki use mujhse bahed pyaar ho gaya hai. Us ne apne pyaar ka izhaar koi baar kiya par maine kabhi bhi usko nahi kahaki mujhe bhi us se pyaar hai hota bhi karte main kisi aur se jo pyar karta tha yeh baat to wo bhisamajh rahi thi ki hamara rishta sifr physical rah gaya tha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *