जब भी आती है तेरी याद कभी शाम के बाद

Lyricist: Krishan Adeeb
Singer: Mehdi Hasan

जब भी आती है तेरी याद कभी शाम के बाद
और बढ़ जाती है अफ़सुरदादिली शाम के बाद।

अब इरादों पे भरोसा है न तौबा पे यकीन
मुझको ले जाए कहाँ तिश्नालबी शाम के बाद।

यूँ तो हर लम्हा तेरी याद को बोझल गुज़रा
दिल को महसूस हुई तेरी कमी शाम के बाद।

मैं घोल रंगत-ए-रोशन करता हूँ बयाबानी
वरना डँस जाएगी ये तीरा-शबी शाम के बाद

दिल धड़कने की सदा थी कि तेरे कदमों की
किसकी आवाज़ सरे जाम सुनी शाम के के बाद।

यूँ तो कुछ शाम से पहले भी उदासी थी ‘अदीब’
अब तो कुछ और बढ़ी दिल की लगी शाम के बाद।

अफ़सुरदादिली = Disappointment Of The Heart
तिश्ना = Thirst, Desire
तीरा = तीरागी = Darkness; तीरा-शबी = Darkness of Night
लगी = Longing, Love

3 Replies to “जब भी आती है तेरी याद कभी शाम के बाद”

  1. Imeem Launches P2P Social Network
    Find out how an integrated IT mobility strategy can deliver ROI, productivity improvements, better employee performance, improved responsiveness and better utilisation of IT investments.
    Hey, you have a great blog here! I’m definitely going to bookmark you!

    I have a programy site/blog. It pretty much covers programy related stuff.

    Come and check it out if you get time 🙂

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *