कह दो इस रात से कि रुक जाए

Lyrics: Noor Dewasi
Singer: Runa Laila

कह दो इस रात से कि रुक जाए दर्द-ए-दिल मिन्नतों से सोया है
ये वही दर्द जिसे ले कर लैला तड़पी थी मजनू रोया है।

मैं भी इस दर्द की पुजारिन हूँ ये न मिलता तो कब की मर जाती
इसके इक-इक हसीन मोती को रात-दिन पलकों में पिरोया है।

यो वही दर्द है जिसे ग़ालिब जज़्ब करते थे अपनी गज़लों में
मीर ने जब से इसको अपनाया दामन-ए-ज़ीस्त को भिगोया है।

5 Replies to “कह दो इस रात से कि रुक जाए”

  1. why you insisting in spellings ?
    huh ? you must be the same person who annoy everyone by his some kiddish talks.
    Frankly speaking you come here to read not to spell ? isnt it.
    Don’t be negative my dear… find positiveness in words..
    If you are in habbit of negativity… i can be your target. Well its not though.
    Jaya great going… … thoughts are good. keep them flowing…
    We are here to catsh you 😀

    NOW PLS DONT TELL ME I HAVE WRITTEN CATCH SPELLING WRONG 😛
    Great going.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *