गुलशन-गुलशन शोला-ए-ग़ुल की

Lyrics: Asghar Saleem
Singer: Mehdi Hasan

गुलशन-गुलशन शोला-ए-ग़ुल की ज़ुल्फ़-ए-सबा की बात चली
हर्फ़-ए-जुनूँ की बंद-गिराँ की ज़ुल्म-ओ-सज़ा की बात चली।

ज़िंदा-ज़िंदा शोर-ए-जुनूँ है मौसम-ए-गुल के आने से
महफ़िल-महफ़िल अबके बरस अरबाब-ए-वफ़ा की बात चली।

अहद-ए-सितम है देखें हम आशुफ़्ता-सरों पर क्या गुजरे
शहर में उसके बंद-ए-क़बा के रंग-ए-हिना की बात चली।

एक हुआ दीवाना एक ने सर तेशे से फोड़ लिया
कैसे-कैसे लोग थे जिनसे रस्म-ए-वफ़ा की बात चली।

सबा=Breeze, wind
हर्फ़-ए-जुनूँ  = A word that describes craziness
अरबाब = Friends
अहद-ए-सितम = Days of Tyranny/Cruelty
आशुफ़्ता = Perplexed, Careworn, Distracted, Confused
आशुफ़्ता-सर = Mentally Deranged
क़बा = Gown, Long Coat Like Garment (I think it has been used in the sense of बुर्का here)
बंद-ए-क़बा = Locked in the gown/बुर्का
तेशे = Axe

2 Replies to “गुलशन-गुलशन शोला-ए-ग़ुल की”

  1. Hi You all wonderful People:
    I can not read Urdu but love the sophistication of the language through listening.. Will it be possible that you add the latin script version also in this site.. That will help us recite and enjoy..

    Regards,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *