मुझे तुम नज़र से गिरा तो रहे हो

Lyrics: Masroor Anwar
Singer: Mehdi Hasan

मुझे तुम नज़र से गिरा तो रहे हो
मुझे तुम कभी भी भुला न सकोगे।
न जाने मुझे क्यों यक़ीं हो चला है
मेरे प्यार को तुम मिटा न सकोगे।

मेरी याद होगी जिधर जाओगे तुम
कभी नग़मा बन के, कभी बन के आँसू।
तड़पता मुझे हर तरफ पाओगे तुम।
शमा जो जलाई है मेरी वफ़ा ने
बुझाना भी चाहो बुझा न सकोगे।

कभी नाम बातों में आया जो मेरा
तो बेचैन हो-हो के दिल थाम लोगे।
निग़ाहों में छाएगा ग़म का अँधेरा।
किसी ने जो पूछा सबब आँसुओं का
बताना भी चाहो बता न सकोगे।

13 Replies to “मुझे तुम नज़र से गिरा तो रहे हो”

  1. शायर हैं मसरूर अनवर। यह गाना एक पाकिस्तानी फ़िल्म “दोराहा” से है।

    और एक टाइपो – अन्तिम पंक्ति में बचा -> बता।

  2. Meri yaad jo aayegi tmko
    Bhari mahfil me muskura na skoge
    Mujhe nazar se gira to rhe ho
    Mujhe dil se tm bhula na skoge
    Hazaro honge tmhe chahne wale
    Mgr apna kisi ko bna na skoge
    Mujhe nazar se gira to rhe ho
    Mujhe dil se tm bhula na skoge….

  3. Umar kya batau kaafi nadaan hai merit.
    Sabhi ko pyar dena pahchan hai meri.
    AGR apka dil Zakhmo se bhara ho to mujhse Milo.
    dilo ko repair karne ki dukan hai meri.

  4. ये मोहब्बत भी है क्या रोग ‘फ़राज़’
    जिसको भूले वो सदा याद आया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *