हमें कोई ग़म नहीं था ग़म-ए-आशिक़ी से पहले

Lyrics:
Singer: Mehdi Hasan

हमें कोई ग़म नहीं था ग़म-ए-आशिक़ी से पहले
न थी दुश्मनी किसी से तेरी दोस्ती से पहले।

है ये मेरी बदनसीबी तेरा क्या कुसूर इसमें
तेरे ग़म ने मार डाला मुझे ज़िन्दग़ी से पहले।

मेरा प्यार जल रहा है अरे चाँद आज छुप जा
कभी प्यार था हमें भी तेरी चाँदनी से पहले।

मैं कभी न मुसकुराता जो मुझे ये इल्म होता
कि हज़ारों ग़म मिलेंगे मुझे इक खुशी से पहले।

ये अजीब इम्तिहाँ है कि तुम्हीं को भूलना है
मिले कब थे इस तरह हम तुम्हें बेदिली से पहले।

10 Replies to “हमें कोई ग़म नहीं था ग़म-ए-आशिक़ी से पहले”

  1. There is true words in the ghazals for emotional sad true lovers . It is really classically song. Best singing by hason da. Thanks.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *