प्यार का पहला ख़त लिखने में वक़्त तो लगता है

Lyrics: Hasti
Singer: Jagjit Singh

प्यार का पहला ख़त लिखने में वक़्त तो लगता है
नये परिन्दों को उड़ने में वक़्त तो लगता है।

जिस्म की बात नहीं थी उनके दिल तक जाना था,
लम्बी दूरी तय करने में वक़्त तो लगता है।

गाँठ अगर पड़ जाए तो फिर रिश्ते हों या डोरी,
लाख करें कोशिश खुलने में वक़्त तो लगता है।

हमने इलाज-ए-ज़ख़्म-ए-दिल तो ढूँढ़ लिया है,
गहरे ज़ख़्मों को भरने में वक़्त तो लगता है।

5 Replies to “प्यार का पहला ख़त लिखने में वक़्त तो लगता है”

  1. Hai Sir,
    aap ki gazal kablia-tarif hai ies gazal mai jo bhi likha gaya hai. wo sayad arbo admi mai 1 admi aise soch sakta hai. ies gazal ko jitna bhi para gay kam hai.

    aise mai bhi gazal likhta hu or mai jamshedpur (TATA) se hu.

    plz reply my e-mail id

    okey sir

  2. har tamanna jiski koi kwahish hogi
    sar kalam karne ko uski aazmaish hogi

    hayaat e dahar mein kaam e bewafaa kya
    jaan nishaar bhi karo to jaan ki aazmaish hogi

    har kwahish hai qatl e waar aur tamanna betaab
    shaayad phir kisi deewane ko mitne ki kwahish hogi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *