हवा का ज़ोर भी

Lyrics:
Singer:

हवा का ज़ोर भी काफ़ी बहाना होता है
अगर चिराग किसी को जलाना होता है।

ज़ुबानी दाग़ बहुत लोग करते रहते हैं,
जुनूँ के काम को कर के दिखाना होता है।

हमारे शहर में ये कौन अजनबी आया
कि रोज़ _____ सफ़र पे रवाना होता है।

कि तू भी याद  नहीं आता ये तो होना था
गए दिनों को सभी को भुलाना होता है।

Had listened to this on one of the Kingfisher flights and noted it down there only. Do not remember the singer now and do not know about the lyricist either. Further could not hear a word if the third “sher” and that’s why there is a blank. Any help?

10 Replies to “हवा का ज़ोर भी”

  1. m guzlo ka shokin hu or kuch jo dil khta h us ko kagz pe likh leta hu .kuch geet or gzl likhi h pr ye nhi pta ki unko kbi zuban mil payegi.my nomber -09569824792. ~~ arz kiya h zra gor frfiye–baki ka hal or sbbb to meri dayri me likha h.fon milaye.–

  2. हमारे शहर में ये कौन अजनबी आया
    कि रोज़ ___Kwab__ सफ़र पे रवाना होता है।

    and Singer is Hariharn.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *