दो जवाँ दिलों का ग़म दूरियाँ समझती हैं

Lyricist: Danish Aligarhi
Singer: Hussain Brothers

दो जवाँ दिलों का ग़म दूरियाँ समझती हैं
कौन याद करता है हिचकियाँ समझती हैं।

तुम तो ख़ुद ही क़ातिल हो, तुम ये बात क्या जानो
क्यों हुआ मैं दीवाना बेड़ियाँ समझती हैं।

बाम से उतरती है जब हसीन दोशीज़ा
जिस्म की नज़ाक़त को सीढ़ियाँ समझती हैं।

यूँ तो सैर-ए-गुलशन को कितना लोग आते हैं
फूल कौन तोड़ेगा डालियाँ समझती हैं।

जिसने कर लिया दिल में पहली बार घर ‘दानिश’
उसको मेरी आँखों की पुतलियाँ समझती हैं।


बाम = Terrace, Rooftop
दोशीज़ा = Bride

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई

Lyricist: Gulzaar
Singer: Jagjeet Singh

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई
जैसे अहसान उतारता है कोई।

आईना दिख के तसल्ली हुई
हमको इस घर में जानता है कोई।

फक गया है सज़र पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई।

फिर नज़र में लहू के छींटे हैं
तुमको शायद मुग़ालता है कोई।

देर से गूँजते हैं सन्नाटे
जैसे हमको पुकारता है कोई।


मुग़ालता = Illusions
सज़र = Branch

ये किसने कह दिया आख़िर कि छिप-छिपा के पिओ

Lyricist: Sant Darshan Singht
Singer: Ghulam Ali

ये किसने कह दिया आख़िर कि छिप-छिपा के पिओ
ये मय है मय, इसे औरों को भी पिला के पिओ।

ग़म-ए-जहाँ को ग़म-ए-ज़ीस्त को भुला के पिओ
हसीन गीत मोहब्बत के गुनगुना के पिओ।

ग़म-ए-हयात का दरमाँ हैं इश्क के आँसू
अँधेरी रात है यारों दिए जला के पियो।

नसीब होगी बारह कैफ़ मर्ज़ी-ए-साकी
मिले जो ज़हर भी यारों तो मुसकुरा के पिओ।

मेरे ख़ुलूस पे शैख़-ए-हरम भी कह उठा
जो पी रहे हो तो ‘दर्शन’ हरम में आ के पिओ।


मय =Wine
ज़ीस्त =Life
दरमाँ = Medicine, Cure
कैफ़ = Intoxication, Happiness
बारह = Turn, Time
ख़ुलूस = Openness
शैख़ = Elder, Preacher

राज़ ये मुझपे आशकारा है

Lyricist: Sant Darshan Singh
Singer: Ghulam Ali

राज़ ये मुझपे आशकारा है
इश्क शबनम नहीं शरारा है।

इक निग़ाह-ए-करम फिर उसके बाद
उम्र भर का सितम गवारा है।

रक़्स में हैं जो सागर-ओ-मीना
किसकी नज़रों का ये इशारा है।

लौट आए हैं यार के दर से
वक़्त ने जब हमें पुकारा है।

अपने दर्शन पे इक निग़ाह-ए-करम
वो ग़म-ए-ज़िन्दग़ी का मारा है।

आशकारा = obvious
शरारा = spark
रक़्स = Dance

बोल रहा था कल वो मुझसे हाथ में मेरा हाथ लिए

Lyricist: Qateel Shifai
Singer: Hussain Brothers

बोल रहा था कल वो मुझसे हाथ में मेरा हाथ लिए
चलते रहेंगे सुख-दुख के हम सारे मौसम साथ लिए।

उसने अपनी झोली से कल प्यार के हमको फूल दिए
लौट आए हैं दामन भर के उसकी ये सौग़ात लिए।

रंग डालो तन मन की बगिया, फ़ागुन बन कर आ जाओ
बरस पड़ो दिल के आँगन में रंगों की बरसात लिए।

हमने अपनी सारी शामें लिख दीं उनके नाम ‘क़तील’
उम्र का लमहा-लमहा बीता उनको अपने साथ लिए।

बात साक़ी की न टाली जाएगी

Lyricist: Habib Jaleel
Singer: Jagjeet Singh, Chitra Singh

बात साक़ी की न टाली जाएगी
कर के तौबा तोड़ डाली जाएगी।

देख लेना वो न खाली जाएगी
आह जो दिल से निकाली जाएगी।

ग़र यही तर्ज़-ए-फुगाँ है अन्दलीब
तो भी गुलशन से निकाली जाएगी।

आते-आते आएगा उनको ख़याल
जाते-जाते बेख़याली जाएगी।

क्यों नहीं मिलती गले से तेग़-ए-नाज़
ईद क्या अब के भी खाली जाएगी।

फुगाँ = Cry of Pain
अन्दलीब = Nightingale
तेग़ = Sword

अपने हाथों की लकीरों में बसा ले मुझको

Lyricist: Qateel Shifai
Singer: Jagjeet Singh

अपने हाथों की लकीरों में बसा ले मुझको
मैं हूँ तेरा तो नसीब अपना बना ले मुझको।

मुझसे तू पूछने आया है वफ़ा के माने
ये तेरी सादा-दिली मार ना डाले मुझको।

ख़ुद को मैं बाँट ना डालूँ कहीं दामन-दामन
कर दिया तूने अगर मेरे हवाले मुझको।

बादाह फिर बादाह है मैं ज़हर भी पी जाऊँ ‘क़तील’
शर्त ये है कोई बाहों में सम्भाले मुझको।

बादाह  = Wine, Spirits

तमाम उम्र तेरा इंतज़ार हमने किया

Lyricist: Hafiz Hoshiarpuri
Singer: Ghulam Ali

तमाम उम्र तेरा इंतज़ार हमने किया
इस इंतज़ार में किस-किस से प्यार हमने किया।

तलाश-ए-दोस्त को एक उम्र चाहिए, ऐ दोस्त!
कि एक उम्र तेरा इंतज़ार हमने किया।

तेरे ख़याल में दिलशाद मैं रहा बरसों
तेरे हुज़ूर इसे सौगवार हमने किया।

ये तिशनगी है कि उनसे क़रीब रहकर भी
‘हफ़ीज़’ याद उन्हें बार-बार हमने किया।


दिलशाद = Cheerful, Winsome
तिशनगी = Desire

आज दिल से दुआ करे कोई

Lyricist: Sant Darshan Singh
Singer: Ghulam Ali

आज दिल से दुआ करे कोई
हक़-ए-उलफ़त अदा करे कोई।

जिस तरह दिल मेरा तड़पता है
यूँ न तड़पे ख़ुदा करे कोई।

जान-ओ-दिल हमने कर दिए कुरबान
वो न माने तो क्या करे कोई।

मस्त नज़रों से ख़ुद मेरा साकी
फिर पिलाए पिया करे कोई।

शौक-ए-दीदार दिल में है ‘दर्शन’
आ भी जाए ख़ुदा करे कोई।

किसी रंजिश को हवा दो कि मैं ज़िंदा हूँ अभी

Lyricist: Sudarshan Faakir
Singer: Chitra Singh

किसी रंजिश को हवा दो कि मैं ज़िंदा हूँ अभी
मुझको अहसास दिला दो कि मैं ज़िंदा हूँ अभी।

मेरे रुकने से मेरी साँसें भी रुक जाएँगी
फ़ासले और बढ़ा दो कि मैं ज़िंदा हूँ अभी।

ज़हर पीने की तो आदत थी ज़मानेवालों
अब कोई और दवा दो कि मैं ज़िंदा हूँ अभी।

चलती राहों में यूँ ही आँख लगी है ‘फ़ाकिर’
भीड़ लोगों की हटा दो कि मैं ज़िंदा हूँ अभी।